Blog Archives

Greater Noida authority launches industrial plots scheme

The Greater Noida Industrial Development Authority has launched a scheme offering industrial plots of sizes greater than 2,100 square metres.

Industrialists who want buy the plots need to fill up a form and submit it to select banks, along with a registration and processing fee, project reports and other statutory documents, as per the terms of allotment.

The sale of application forms will start from September 21. Forms will be available at select bank branches on payment of Rs 1,100. These are the Bank of Baroda branch at Gamma II, HDFC Bank at Alpha commercial belt, and Indian Bank at Jagat Farms – Gamma I.

The forms can also be downloaded from the authority’s website. For downloaded forms, a demand draft of Rs 1,100 in favour of authority has to be submitted along with the application form.

GNIDA will scrutinise the applications and ask applicants to appear before the allotment committee. The final approval will be done after seeking nod from the GNIDA board.

GNIDA Chairman Rama Raman said: “The scheme is open ended. It will remain open till authority announces closure.”

Source: Magicbricks.com, September 2013
Want to buy Commercial Property in Delhi NCR, Email us or SMS: SAVIOUR at 53030.

Advertisements

Office Spaces in Ghaziabad India

पहचानें प्रॉपर्टी की बिक्री से मुनाफा लेने का सही वक्त

पहचानें प्रॉपर्टी की बिक्री से मुनाफा लेने का सही वक्तअगर आप रियल एस्टेट में निवेश करना चाहते हैं तो आपको रियल एस्टेट बाजार के हर पहलू से पूरी तरह परिचित होना होगा साथ ही यह भी जानना होगा कि फायदे का सबसे उपयुक्त समय कब आता है, ताकि आप प्रॉपर्टी बेच कर अधिकतम मुनाफा अर्जित कर सकें। प्रॉपर्टी की बिक्री से पहले किसी भी निवेशक को निम्नलिखित बातों पर गौर जरूर करना चाहिए-

* रियल एस्टेट में निवेश करने वाले निवेशकों को इंवेस्टमेंट होराइजन-यानी कि खरीदारी और दोबारा बेचने के बीच की अवधि का अवश्य फैसला करना चाहिए।
* दोबारा बिक्री के समय टैक्स का क्या प्रभाव पड़ेगा, इस बारे में भी विस्तृत विश्लेषण करना जरूरी है।
* कानूनी फीस व दलाली जैसे खर्चे का भी पहले ही आकलन कर लेना चाहिए।
* समय से पहले लोन चुकाने पर प्री-पेमेंट पेनाल्टी और स्टांप ड्यूटी का खरीदार पर क्या असर पड़ेगा, इसका पता कर लेना चाहिए।
* निवेशक को यह भी आकलन करना चाहिए कि संपत्ति की दोबारा बिक्री करने से पहले इसकी साज-सज्जा या विस्तार कराना फायदेमंद होगा, कि उसे जैसा है वैसी ही स्थिति में बेच देना ठीक रहेगा।
* निवेश की अनुमानित अवधि तक संभावित रेंटल इनकम और प्रॉपर्टी की बिक्री से प्राप्त होने वाली रकम की गणना भी की जाए।
* टाइमिंग चाहे जो भी हो, प्रॉपर्टी में निवेश करने वाले निवेशक को सर्वोच्च गुणवत्ता वाले संपत्ति आधार पर हमेशा फोकस करना चाहिए। इसका मतलब यह है कि बिल्डिंग की खासियत व गुणवत्ता, उसकी लोकेशन व इंफ्रास्ट्रक्चर पर ज्यादा ध्यान दें।

बाजार के चुनौतीपूर्ण हालातों में हड़बड़ा कर, जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी संपति को बेचना एक गलत निवेश रणनीति है। दरअसल यह जानना भी महत्वपूर्ण है कि वर्तमान रियल एस्टेट के चक्र में बाजार आखिर स्थिर कब होगा। जब आप इसका आकलन करने में सक्षम हो जाएंगे तो आप रियल एस्टेट निवेश से कामयाब व फायदेमंद एक्जिट कर सकते हैं।

यह ध्यान रहे कि सभी उद्योगों का एक चक्र होता है, कारोबार हो या डेमोग्राफिक चक्र यह दोनों पर लागू होता है। ठीक इसी तरह से रियल एस्टेट का भी एक चक्र होता है। इस दुनिया में सबसे ज्यादा लाभ तब कमाया जा सकता है जब खरीदारी ऐसे समय में और सस्ती दरों पर की जाए, जब कोई इसे खरीदना नहीं चाहता हो और इसे ऊंची कीमत पर तब बेचें जब मांग में मजबूती दिखाई दे रही हो।

ध्यान रहे कि रियल एस्टेट के चक्र में ऐसे वक्त भी लगातार आते रहते हैं जब कि ग्रोथ ही ग्रोथ दिखे। ऐसे समय में भी प्रॉपर्टी में निवेश करने वाले को खास सावधानियां बरतनी हैं। यह भी एक प्रकार का कारोबार है लिहाजा आपको जोखिम पर भी ध्यान रखना होगा। खास तौर से तब तो और ज्यादा जब रियल एस्टेट चक्र में मंदी का माहौल चल रहा हो।

इसके अलावा निवेशकों को यह भी ध्यान देना है कि वे संभावित मांग को बढ़ा-चढ़ाकर न आकलित करें। या फिर वे मौजूदा रुझानों को भविष्य की अनिश्चितता का जामा भी न पहनाएं। वे बाजार में बढ़ोतरी को सावधानी से देखें और गिरावट को एक अवसर के रूप में समझें।

अगर आप मैक्रो व माइक्रो मार्केट चक्र तथा मार्केट की टाइमिंग को भली-भांति समझ जाएं तो लंबे समय में बाजार के अमूमन रिटर्न से ज्यादा रकम हासिल कर सकते हैं, यही कामयाब निवेशक की रणनीति होती है।

इसमें निजी अनुभव, सुपरिचित ज्ञान व सही फैसले का भी काफी बड़ा हाथ होता है। इसे अमली जामा पहनाने का एकमात्र तरीका शोध है, गहन शोध। हालांकि भारत में यह बहुत ज्यादा संभव नहीं हैं फिर भी आप रियल एस्टेट बाजार की हर प्रकार की चीजों व रुझानों की गहराई से जानकारी प्राप्त करें।

स्रोत: बिजनेस भास्कर, 17 जून 2013

Saviour – Real Estate Developers in Greater Noida West के बारे में किसी भी जानकारी के लिएहमें ईमेल करें.

Saviour Builders launching New Project

Saviour is coming up with its new residential project. The property is spread over an area of 10 acres and is a house hunter’s paradise. The renowned architect, Hafeez Contractor has bared its splendid imaginations to bestow the remarkable gaze and experience.

Builders in Noida ExtensionFor any information on Saviour – Builders in Delhi NCR,  Email us.

Cabinet OKs regulator for Real Estate

Lays Down Norms To Help Home Buyers

  • The Union Cabinet on Tuesday cleared a legislation to set up the long-pending real estate regulator aimed at protecting home buyers from unscrupulous developers and builders.
  • The real estate regulator, to be set up in every state, will ensure that private developers get their projects registered with it before sale and after obtaining all necessary clearances.
  • “It will be mandatory for developers under the law to get every project registered with the regulator before selling any immovable property,” an official said.
  • The Real Estate (Regulation and Development) Bill 2013, however, keeps commercial real estate out of its purview and will apply only to residential buildings.
  • There is a provision for mandatory public disclosure of all project details such as credentials of promoters, layout plan, land status, carpet area, number of apartments booked and status of statutory approvals — addressing a major concern of buyers about incomplete or fraudulent land acquisition and pending clearances.

REINING IN REALTY

  • Real estate regulator to be set up in every state.
  • Private developers will have to register projects before sale.
  • Builders can advertise only after getting all clearances.
  • All project details to be publicly disclosed, including promoter details, layout plan, land status, carpet area, no. of apartments booked.

Sale on basis of carpet area

Commercial properties kept out of proposed bill Flats can’t be sold on basis of ambiguous ‘super area’.

  • The proposed legislation on a real estate regulator will clearly define carpet area and private developers will not be allowed to sell houses or flats on the basis of ambiguous ‘super area’. 
  • The builders won’t be allowed to publish misleading advertisements to lure buyers while advertising the project. “They will have to use pictures reflecting the actual project that will be delivered to home buyers,” an official said.
  • The developer will have to deposit 70% of funds received for a particular project in a separate bank account to cover the construction cost of the project. This provision was made to discourage developers from diverting funds of a particular project to another that often causes inordinate delay.
  • The proposed legislation provides punitive provisions ranging from a penalty which may be up to 10% of the project cost, deregistration of the project and imprisonment.
  • The bill, which seeks to provide a uniform regulatory environment to the sector, was opposed by almost all private developers. But housing minister Ajay Maken persisted with it, saying that the legislation will infuse transparency through its provisions on public disclosure.
  • Under the bill, there will be a model builder-buyer agreement which is expected to reduce ambiguities in real estate transactions that not many buyers are familiar with.
  • Real estate agents will also be asked to register with the regulator. Agents, an important link between the promoter and buyer, have been an unregulated lot till now. Once they are registered, it will help in curbing money laundering, sources said.

Source: The Times of India, June 5, 2013, Page – 1

For any information on Saviour – Builders in Delhi NCREMail Us.

Noida Circle Rates to go Up

Buying land or a house in Noida, Greater Noida or along the Yamuna Expressway may soon get costlier as the stamp and registry department has proposed to increase the circle rates by up to 35%. This proposal comes within days of the three development authorities hiking property rates by up to 30% after their board meeting on May 25th.

Officials said the revised rates are likely to be implemented from mid-July. “We have proposed a hike between 17% and 35% in circle rates of all categories, including residential, institutional, industrial and commercial. While a hike between 17-20% has been proposed for the residential sector, institutional, commercial and institutional sectors will witness an increase in circle rates between 27% and 35%. However, the proposal is subject to clearance by the state government,” said SK Singh, assistant inspector general (AIG), registrar department.

“The proposal will be sent to the district magistrate who in turn will send it to the Allahabad head office. This entire process will take at least a month and a half to be passed. We expect the fresh rates to come into force by mid-July,” he said.

Officials said that the hike in circle rates of the residential category will be dependent on the lease rent of a property, the rates of which are varied. In some lease deeds, the authorities charge 1% as lease rent, while in others 2.5% is levied,” the official said.

The allotment rates for group housing, institutional and residential properties have been increased by up to 15% and commercial and industrial land by 30% and 11.25%, respectively, in the Noida region. The Greater Noida Authority hiked allotment rates for land across all categories, except industrial, uniformly by 8.53%. The Yamuna Expressway Authority has upped its allotment rate by up to 15%.

The hike in both allotment and circle rates means that buying a house or any other property in Greater Noida, Noida or Yamuna Expressway will cost more. However, real estate players said that this will be a good way to develop the region.

“Even after the proposed rates are implemented, properties in Noida, Greater Noida and Yamuna Expressway areas will still be affordable if compared with Gurgaon. For developing infrastructure there is a need of funds and that can only be generated by increasing rates,” said Amit Gupta, MD, Orris Infrastructure.

Source: MagicBricks.Com, May 30, 2013

For any information on Saviour – Builders in Delhi NCREMail Us.

Mumbai to Beat NCR in Commercial Realty

Central Mumbai has emerged as the country’s most attractive investment destination for office properties with 19% net annual return as prices are expected to rise 63% and rentals by 47% over five years, global real estate consultant Knight Frank said in a report.Flats In Greater Noida

But in National Capital region, returns on investment in commercial properties expected to fetch one of the lowest return of 10%. Peripheral Business Districts in Noida and Gurgaon will yield 11% return per annum. “At 19% per annum return, Mumbai’s central district, which comprises Parel, Lower Parel, Dadar, Prabhadevi, will yield the best return on investment in the country,’’ Knight Frank India chief economist Samantak Das said.

Mumbai’s (SBD-West) will give a return of 15%. Availability of talent, conducive business environment, international air connectivity, presence of prominent stock and commodity exchanges along with headquarters of several banks form the backbone of the financial industry in Mumbai, the consultant said. India’s financial capital’s office space has seen highest occupancy of 26% from the banking, financial services and insurance (BFSI) sector, followed by IT/ITeS segment with 25% demand.

As against this, micromarkets such as Connaught Place, Nehru Place, Saket, Jasola and Bhikaji Cama Place in Delhi will witness a subdued return of 10%. Around 50% of the expected supply to be added during 2013-17. However, vacancy levels are also expected to peak before stabilizing at 18.8% by 2017. The report said as the economy is likely to revive in the coming years, the demand for office space in Mumbai and Delhi will increase.

Hyderabad (SBD), Mumbai (BKC & off BKC) and Pune (SBD East) are at third position in terms of investors return at 14% per annum. The business districts of the National Capital Region (NCR) and Bengaluru, despite being the largest office markets in the country, will lag behind other cities in terms of investor return, Das said. “While IT dominates Bengaluru and BFSI remains significant for Mumbai, NCR has a more diversified demand for office space. Also, more and more corporates are evaluating NCR due to better infrastructure and availability of manpower,” Knight Frank India director (occupier solutions group) Viral Desai said.

Source: Times of India, Delhi, May 23, 2013, Page – 26

For any information on Saviour Builders Pvt. Ltd.EMail Us.

नए रीयल एस्टेट मॉडल में रिटर्न

सोने की कीमतों में हालिया गिरावट के बाद इस बारे में काफी विमर्श हुआ है कि क्या भारतीयों में सोने का लगाव कभी कम होगा? यदि ज्वेलरों की बात पर विश्वास करें तो कीमतों में आई इस गिरावट से खरीद बढ़ेगी, क्योंकि लोग मानते हैं कि यह गिरावट अस्थाई है। इसी तरह के अन्य लोगों के लिए निवेश की दूसरी सबसे बड़ी पसंद रीयल एस्टेट क्षेत्र है। ज्यादातर भारतीयों के मुताबिक निवेश के सबसे सही विकल्प जमीन और सोना ही हैं। लोग दो हजार या तीन हजार साल पहले भी ऐसा ही मानते थे। इसे किसी सूक्ति की तरह सत्य मान लिया जाता है कि सोने और जमीन में किए गए निवेश पर कभी नुकसान नहीं होगा।

सोने में निवेश करने वाले लोगों की यह लत छुड़ाने को लेकर ज्यादा चर्चा होती है, क्योंकि सोना देश के चालू खाते के घाटे पर असर डालता है। लेकिन जब हम लोगों के पर्सनल फाइनेंस के लिहाज से बात करते हैं तो रीयल एस्टेट की भूमिका ज्यादा बड़ी समस्या साबित होती है। सामान्य मध्यवर्ग के लोग भी बड़ी रकम का कर्ज लेकर शुद्ध रूप से निवेश के लिए दूसरा घर खरीदते हैं। उनका गहरा विश्वास होता है कि दूसरा घर खरीदना, कहीं और निवेश करने से बेहतर विकल्प है। इसके लिए वे 15 साल तक ईएमआइ का बोझ उठाते हैं जो उनकी आय का बड़ा हिस्सा निगल जाती है। ब्याज दरें काफी ज्यादा हैं जबकि किराये से होने वाली आय या तो बेहद कम है या बिल्कुल नहीं है। सोने के मामले में इस हद तक गलत निवेश नहीं हो रहा। लोग ऐसा क्यों कर रहे हैं? इस तरह के भरोसे का कारण क्या है? इस भरोसे का बड़ा कारण इस बात के भ्रामक साक्ष्यों कि मौजूदगी है कि लोगों ने रीयल एस्टेट क्षेत्र से भारी कमाई की है। इस बात को बेहद कम समझा गया है कि लंबी अवधि में रीयल एस्टेट से भारी रिटर्न के उदाहरणों के दोहराए जाने की संभावना अब नहीं है, क्योंकि अब रीयल एस्टेट में निवेश बेहद अलग तरह के मॉडल के जरिये हो रहा है। यदि आप इस बात को जानने का प्रयास करें कि ऐतिहासिक रूप रीयल एस्टेट में रिटर्न किन कारणों से हासिल हुआ तो आप इसके पांच कारण पहचान सकते हैं। पहला कारण रहा, सामान्य या कृषि भूमि का आवासीय या वाणिज्यिक इस्तेमाल के रूप में उपयोग बढ़ना। दूसरा, भौतिक आधारभूत संरचनाओं के निर्माण से जमीन के उपयोग में वृद्धि हुई। तीसरा कारण रहा, ज्यादा जनसंख्या वाले इलाकों में जमीनों की कॉमर्शियल उपयोगिता में वृद्धि। कीमतों में बदलाव का चौथा, समय-समय पर रीयल एस्टेट में आने वाले उतार- चढ़ाव। पांचवा कारण है महंगाई में होने वाली आम वृद्धि, जिससे संपत्तियों की कीमतों में वृद्धि होती है।

इससे पहले की पीढ़ियां जब संपत्ति की खरीद करती थीं तो उन्हें दूसरे से लेकर पांचवे कारण तक का लाभ मिलता था। लेकिन अब स्थितियां बदल गई हैं और अब आप एक रीयल एस्टेट डेवलपर से अपार्टमेंट खरीदते हैं। इस मॉडल में पहले से तीसरे कारण तक का पूरा लाभ डेवलपर और डेवलपर से पहले खरीद करने वाले लोग हासिल करते हैं। इतना नहीं, सबसे बुरा यह है कि डेवलपर संपत्ति पर भविष्य में होने वाले लाभ की कीमत भी पूरी तरह से वसूलने के सभी प्रयास करता है।

रीयल एस्टेट डेवलपमेंट क्षेत्र में होने वाली भारी मार्केटिंग हाइप का उद्देश्य आपको इस बात के लिए तैयार करना ही होता है, आप जो संपत्ति खरीद रहे हैं उसका भविष्य बेहद उज्जवल है और उसकी मांग काफी ज्यादा रहेगी। इसलिए आपको ऐसे बेहतर भविष्य का भुगतान अभी कर देना चाहिए। असल में निवेश के पैमानों पर देखा जाए तो आपकी खरीद कीमत वास्तविक मूल्य से कई गुना ज्यादा होती है, जो निकट भविष्य में वास्तविक कीमत में तब्दील नहीं होगी। यह सिर्फ ठगी है और कुछ नहीं। ऐसा करने के लिए शहरी जमीनों की नकली कमी और रीयल एस्टेट क्षेत्र में बड़े पैमाने पर लग रहे काले धन से मदद मिलती है। हर व्यक्ति को अपने रहने के लिए एक संपत्ति खरीदनी चाहिए और निवेश के तौर पर रीयल एस्टेट में रकम लगाने का विचार त्याग देना चाहिए। हालांकि, आप ऐसा तभी करेंगे जब आपके पास बड़ी मात्र में काला धन न हो। अगर आपके पास काला धन है तो फिर आपको किसी इन्वेस्टमेंट कॉलम से निवेश सलाह लेने की जरूरत ही नहीं है।

असल में निवेश के पैमानों पर देखा जाए तो आपकी डेवलपरों से रीयल एस्टेट की खरीद कीमत वास्तविक मूल्य से कई गुना ज्यादा पर होती है। इसलिए यह निकट भविष्य में वास्तविक कीमत में तब्दील नहीं होगी। यह सिर्फ ठगी है और कुछ नहीं। ऐसा करने के लिए शहरी जमीनों की नकली कमी और रीयल एस्टेट क्षेत्र में बड़े पैमाने पर लग रहे काले धन से मदद मिलती है।

स्रोत:- दैनिक जागरण, 19 मई, 2013, पृष्ठ – 12

Saviour Builders Pvt. Ltd. पर किसी भी जानकारी के लिए हमें मेल करें.

Celebrating 18 years of Success over 18,000 Families

Winner of the car in Gaurs 60 Days 60 Cars Carnival

Saviour Builders Pvt. Ltd.Source: Hindustan Times (HT Estates Hindi), May 18, 2013, Page – 5

For any information on Saviour Builders Pvt. Ltd.EMail Us.

Gaur City – Celebrating 18 Years of Trust over 18,000 families

Only 45 Days left for the Carnival until the offer closes.

So HURRY..!! and Register to participate in the Gaurs 60 Days 60 Cars Carnival, and get a chance to win A Car or A Crore. Book a property in Gaur City and Gaur City 2 and become a lucky person by winning a car or a crore.

Wish to participate in the carnival:-

Click here to register for the Carnival

Construction companies in Delhi / NCR

Click here to register for the Carnival

For any information on Saviour Builders Pvt. Ltd.EMail Us.

%d bloggers like this: